ग़ज़ल अल्बम तिनका तिनका की शानदार रिलीज

दादासाहेब फाळके फिल्म फाऊंडेशन ने करोना काल में ऑनलाईन माध्यम से  देश विदेश के नये गायकों को प्लेबैक सिगिंग का मौका देने की मोहीम शुरू कि थी।

दस नये गायक गायिका बड़ोदरा गुजरात से वसुधा पंड्या, वेस्ट बंगाल से मासुम रज़ा, पुना महाराष्ट्र से मंजु सिन्हा, दिपा सराइ , संभल,उ॰प॰ से साजरुल इस्लाम और  मोराबाद उ॰प॰ के ताहीर खान,मध्यप्रदेश से तरुणा शुक्ला,कलकत्ता से जयंता भट्टाचार्या , हैदराबाद से फरहा ज़ेबा, पंजाब से प्रेम पॉल तथा उत्तन मुम्बई से अमीना शिरगांवकर इन १० नये प्रतिभाशाली गायको को ग़ज़ल अल्बम तिनका तिनका में प्लेबॅक गायन का मौका दिया गया। तिनका तिनका ग़जल अल्बम की ग़ज़ले जानेमाने मशहूर शायर सुदर्शन फाकिर,नफिस आलम, अंजान सागरी, आशफाक खोपेकर, मुमताज़ राशिद और हस्तीमल हस्ती की लिखी हुई है तथा पंकज उदास फेम  संगीतकार अलीगनी  के संगीत से इसे संवारा है। ग़ज़लों की रिकाॅर्डीग मुम्बई के  AB Studio मे रिकॉर्डीस्ट अरविंद जी ने  तथा सिंगरो होम टाउन नोयेडा  शहर के Future of Music मे साउंड रिकिर्डीस बिस्वजीत और Lets Mix स्टुडीओ , हैदराबाद के Laxvil dubbing and recording studio तथा पंजाब के स्टुडीओ में रिकॉर्ड कराया गया और सारी ग़ज़लो की मिक्सींग प्रख्यात साउंड इंजीनियर बीजु नायर ने मुम्बई में की है।

२०२२नोव्हेंबर २ को अफरीन म्यूजीक  कंपनी द्वारा इसे दुनिया भर के डिजिटल प्लॅटफॉर्म पर रिलिज़ किया गया।

अल्बम पब्लिसिटी की जुम्मेदारी PRO Punit Khare, Lucky wonder web world ने और प्रोडक्शन अंजुम बिलाल खोपेकर ने  संभाली।

प्लेबैक की कोशिश करते हुए इन कलाकारो ने Starmaker app द्वारा अपनी काबिलियत के बल पर यह मौका साहील किया ।

स्टार मेकर ऍप में बनाए हुए दादासाहेब फाळके फिल्म फोन्डेशन पार्टी रुम द्वारा दादासाहेब फाळके फिल्म फाऊंडेशन की टीम योग्य गायकों का चयन कर उन्हें  उन्ही के शहर के रीकाॅर्डीग स्टुडियो में ग़ज़ल अल्बम तिनका तिनका की ग़ज़लों प्लेबैक सिंगिंग करने का विना मुल्य मौका दिया गया। यह सिलसिला लाॅकडाऊन के समय को उपयोग में लेते हुए शुरु किया गया था।

कुछ और सिंगरों का चयन हो चुका था उन्हें अब मौका दिया जायेगा।इसी अल्बम के विडियो में भी नये कलाकारों को मौका मिलेगा। टेलेंटेड कलाकारों को स्ट्रगल  करते वक्त होनेवाली परेशानीयों को मध्य नजर रखते हुऐ दादासाहेब फाळके  फिल्म फाउंडेशन के अध्यक्ष आशफ़ाक़ खोपेकर और उन की टीम ने ओनलाईन माध्यम को चुनकर सरहानिय क़दम उठाया है। आगे भी इस सिलसिले को जारी रखते हुए और भी कलाकारो के लिए काम किया जा रहा है।इस अल्बम के सिंगरो और कलाकारों को दादासाहेब फाळके फिल्म फोन्डेशन अवार्ड की ओर से सन्मानित किया जायेगा।

करोना के कारण वंश दादासाहेब फाऴके फिल्म फॉन्डेशन अवार्ड ३ साल हो नहीं पाया जो जल्द ही घोषित किया जाएगा।

   

ग़ज़ल अल्बम तिनका तिनका की शानदार रिलीज

Print Friendly, PDF & Email